Blogger Template by Blogcrowds

प्रेमिका के नाम एक ख़त.....

(कहते हैं 16 साल की उम्र में दिल..... खैर छोड़िये बिना किसी भूमिका के एक कविता आपके सामने पेश है ... ये कविता मैंने उसी 16 साल की उम्र में लिखी थी.)

प्रेमिका के नाम एक ख़त.....

दोस्त!
तुम पूछती हो न
मेरा दिल क्यों शाद नहीं है
उलझ के जिंदगी की रंगीनियों में मैं
क्योँ सुलझा नहीं लेता ग़मों की सारी गुत्थियाँ
देख के तुम सी हसीं
क्योँ उदास हो जाता हूँ
कहाँ खो जाता हूँ.

सोचता हूँ मैं
जब उम्र ने उसके चेहरे पर
अपना हिसाब नहीं लिखा होगा,
जब अनुभव सिलवटें नहीं बने होंगे
न सिलवटें चेहरा
तब उसकी जुल्फों का रंग रहा होगा गहरा
तब माँ भी खूबसूरत रही होगी
बिलकुल तुम सी
हँसती हुई
खिलखिलाती हुई.

यूँ तो माँ अब भी खूबसूरत है
बहुत कुछ भूल के
जब वो कुछ याद करती है
यादों की लहर
जब बहा ले जाती है माथे की शिकन
और हंस देती है हौले से जब कभी
तब माँ भी.....

दोस्त!
सब जानते हैं - पर मानते नहीं
उसकी हंसी को उम्र ने नहीं पिया
मै भी जानता हूँ
उसकी हंसी सुखा ले जाने वालों के नाम
पर बता नहीं सकता
जैसे गणित नहीं निकाल पता
सिलवटों में छिपे सवालों का हल
चार दीवारें + एक छत
=
जेलघर या घरमहल...

माँ को भी कहाँ था मालूम
जब संस्कारों की चौकी पर बैठ
देख कर अतीत का दर्पण
उसने लज्जा का श्रृंगार किया
हाय! नहीं था मालूम
उसने छोड़ दिया हक़ लड़ने का
बांध दी बेड़ियाँ अपनी ही दर्द की चीख़ पर
फिर संघर्ष बस इतना ही
एक अँधेरी गुफा से निकल
दूसरी अँधेरी गुफा में जाना
घुलते जाना - घुलते जाना
फिर क्या जेल - क्या घर
क्या परिवार - क्या चक्की
समाज कुछ और नहीं
बस तनी उंगलियाँ
जिनका काम ही है
वक्त -बेवक्त उठ जाना किसी भी तरफ

माँ को नहीं था मालूम
पर तुम समझ लेना मेरी दोस्त!
उम्र जिंदगी नहीं होती
न प्यार समझौता
इनके लिए लड़ती रहना मेरी दोस्त
इस पूरी दुनिया से
और दूसरे पाले में
मुझसे और खुद से भी.

5 टिप्पणियाँ:

bahut hi khoobsoorat khat.

24 जुलाई 2010 को 6:06 am  

हालाँकि आप ने उम्र कि लक्ष्मण रेखा बना दी है ...........
बावजूद इसके कुछ कने से नही रोक पा रहा हूँ .
आप इसे अन्यथा नही लेंगे आशा है
कविता रियलिटी का भाव भोध काफी मच्चोर है| इसलिए कविता खूबसुरत देखती है
"माँ " जो कि कविता के लिए संक्रामक प्रत्तय है, से काफी जुदा |
पर जहाँ तक मेरी जानकारी है ..आपके कांटेक्स्ट के लिहाज से कविता कोई चमत्कार नही पैदा करती|
सवाल- किशोर कविताओं में ज्यादातर एक तरह का उपदेश क्यों मिलता है ?

24 जुलाई 2010 को 6:30 am  

शुक्रिया वंदना जी @ मनोज जी किशोर उससे कहीं ज्यादा मेच्चौर होते हैं जितना उनको समझा जाता है.. आपकी आलोचना के सम्मान के बावजूद मै ये मानने के लिए तैयार नहीं कि इसमें कहीं उपदेश का भाव है. देखिये स्त्री जिस तरह पैदा नहीं होती बनाई जाती है उसी तरह पुरुष को भी समाज में पुरुष बनाया जाता है. ये एक किशोर कि मांग है अपने दोस्त से (और वो मांग भी इसलिए है क्यूंकि उसने स्त्री का एक ही हश्र देखा है यहाँ तक अपनी माँ का भी) कि वो नहीं चाहता उसकी प्रेयसी का भी वही हश्र हो न ही वो ये चाहता है कि वो उस तरह का पुरुष बन जाये. ये भाव इत्ता जाना पहचाना है कि किसी चमत्कार कि मै आशा भी नहीं करता था... पर हाँ ये सच है आज मै अगर ये कविता लिखता तो शायद कुछ अलग तरीके से लिखता.

24 जुलाई 2010 को 10:57 am  

बेहतर कविता...

24 जुलाई 2010 को 9:34 pm  

पहले कविता और इतनी अच्छी... पूत के पाँव पालने में ....
सच में बेहद खूबसूरत रचना
बहुत हार्दिक शुभकामनाएं

6 सितंबर 2010 को 2:35 am  

नई पोस्ट पुरानी पोस्ट मुख्यपृष्ठ